Movie : Tumsa Nahin Dekha (1957)

Lyrics of Aayen Hain Door Se

Lyrics in English

Aayen Hain Door Se
Milne Huzoor Se
Aise Bhi Chup Na Rahiye
Kahiye Jee Kuchh Toa Kahiye
Din Hai Ke Raat Hai
Tum Se Mehmaan Ka
Mujh Pe Ehasaan Kya
Laakhon Hi Zulfon Waale
Aate Hai Ghera Daale
Meri Kya Baat Hai
Aayen Hain Door Se
Milne Huzoor Se
Aise Bhi Chup Na Rahiye
Kahiye Jee Kuchh Toa Kahiye
Din Hai Ke Raat Hai………..
Uth Ke Toa Dekhiye
Kaisi Fiza Hai
Sharmaana Chhodiye
Ye Kya Ada Hai
Uth Ke Toa Dekhiye
Kaisi Fiza Hai
Sharmaana Chhodiye
Ye Kya Ada Hai
Tauba Ye Kya Farmaaya
Main Toa Yoon Hi Sharmaaya
Tauba Ye Kya Farmaaya
Main Toa Yoon Hi Sharmaaya
Meri Kya Baat Hai
Aayen Hain Door Se
Milne Huzoor Se
Aise Bhi Chup Na Rahiye
Kahiye Jee Kuchh Toa Kahiye
Din Hai Ke Raat Hai
Ho Tum Se Mehmaan Ka
Mujh Pe Ehasaan Kya
Laakhon Hi Zulfon Waale
Aate Hai Ghera Daale
Meri Kya Baat Hai………..
Dikhti Hai Roz Hi
Aisi Fizaayen
Mukhde Ke Saamne
Kaali Ghataayen
Are Dikhti Hai Roz Hi
Aisi Fizaayen
Mukhde Ke Saamne
Kaali Ghataayen
Koyee Chal Jaaye Jadoo
Phir Ham Poochhege Babu
Koyee Chal Jaaye Jadoo
Phir Ham Poochhege Babu
Din Hai Ke Raat Hai
Ho Tum Se Mehmaan Ka
Mujh Pe Ehasaan Kya
Laakhon Hi Zulfon Waale
Aate Hai Ghera Daale
Meri Kya Baat Hai
Aa Aayen Hain Door Se
Milne Huzoor Se
Aise Bhi Chup Na Rahiye
Kahiye Jee Kuchh Toa Kahiye
Din Hai Ke Raat Hai
Ho Tum Se Mehmaan Ka
Mujh Pe Ehasaan Kya
Laakhon Hi Zulfon Waale
Aate Hai Ghera Daale
Meri Kya Baat Hai………..

Lyrics in Hindi

आएं हैं दूर से
मिलने हुज़ूर से
ऐसे भी चुप न रहिये
कहिये जी कुछ तो कहिये
दिन है के रात है
तुम से मेहमान का
मुझ पे अहसान क्या
लाखों ही ज़ुल्फ़ों वाले
आते हैं घेरा डाले
मेरी क्या बात है
आएं हैं दूर से
मिलने हुज़ूर से
ऐसे भी चुप न रहिये
कहिये जी कुछ तो कहिये
दिन है के रात है..............
उठ के तो देखिये
कैसी फ़िज़ा है
शरमाना छोड़िये
ये क्या अदा है
उठ के तो देखिये
कैसी फ़िज़ा है
शरमाना छोड़िये
ये क्या अदा है
तौबा ये क्या फ़रमाया
मैं तो यूँ ही शरमाया
तौबा ये क्या फ़रमाया
मैं तो यूँ ही शरमाया
मेरी क्या बात है
आएं हैं दूर से
मिलने हुज़ूर से
ऐसे भी चुप न रहिये
कहिये जी कुछ तो कहिये
दिन है के रात है
तुम से मेहमान का
मुझ पे अहसान क्या
लाखों ही ज़ुल्फ़ों वाले
आते हैं घेरा डाले
मेरी क्या बात है..............
दिखती है रोज़ ही
ऐसी फ़िज़ाएं
मुखड़े के सामने
काली घटाएं
अरे दिखती है रोज़ ही
ऐसी फ़िज़ाएं
मुखड़े के सामने
काली घटाएं
कोई चल जाए जादू
फिर हम पूछेंगे बाबू
कोई चल जाए जादू
फिर हम पूछेंगे बाबू
दिन है के रात है
हो तुम से मेहमान का
मुझ पे अहसान क्या
लाखों ही ज़ुल्फ़ों वाले
आते हैं घेरा डाले
मेरी क्या बात है
आएं हैं दूर से
मिलने हुज़ूर से
ऐसे भी चुप न रहिये
कहिये जी कुछ तो कहिये
दिन है के रात है
हो तुम से मेहमान का
मुझ पे अहसान क्या
लाखों ही ज़ुल्फ़ों वाले
आते हैं घेरा डाले
मेरी क्या बात है..............

New Songs

Zaalima Coca C..

Film: Bhuj: The Pride of India (2020)

Param Sundari..

Film: Mimi (2021)

Chinta Na Kar..

Film: Hungama 2 (2021)

Chura Ke Dil M..

Film: Hungama 2 (2021)

Husnn Hai Suha..

Film: Coolie No. 1 (2020)

Tujh Ko Mirchi..

Film: Coolie No. 1 (2020)

View More